वीभत्स रस की परिभाषा एवं उदाहरण / वीभत्स रस के उदाहरण व स्पष्टीकरण

हिंदी व्याकरण विभिन्न परीक्षाओं जैसे UPTET,CTET, SUPER TET,UP POLICE,लेखपाल,RO/ARO,PCS,LOWER PCS,UPSSSC तथा प्रदेशों की अन्य परीक्षाओं की दृष्टि से अत्यंत उपयोगी विषय है। हमारी वेबसाइट istudymaster.com आपको हिंदी व्याकरण के समस्त टॉपिक के नोट्स उपलब्ध कराएगी। दोस्तों हिंदी व्याकरण की इस श्रृंखला में आज का टॉपिक वीभत्स रस की परिभाषा एवं उदाहरण / वीभत्स रस के उदाहरण व स्पष्टीकरण है। हम आशा करते है कि इस टॉपिक से जुड़ी आपकी सारी समस्याएं समाप्त हो जाएगी।

वीभत्स रस की परिभाषा एवं उदाहरण / वीभत्स रस के उदाहरण व स्पष्टीकरण

वीभत्स रस की परिभाषा एवं उदाहरण / वीभत्स रस के उदाहरण व स्पष्टीकरण

चलिए अब समझते है – वीभत्स रस किसे कहते हैं,वीभत्स रस के उदाहरण,वीभत्स रस के सरल उदाहरण,वीभत्स रस का स्थायी भाव,वीभत्स रस की परिभाषा एवं उदाहरण / वीभत्स रस के उदाहरण व स्पष्टीकरण

वीभत्स रस की परिभाषा

घृणित वस्तु, दृश्य या व्यापार से उत्पन्न घृणा के चित्रण में
वीभत्स रस होता है। अधजले शव से दुर्गंध, कुत्तों – गिद्धों द्वारा
मांस नोच-नोच कर खाना, सड़े घाव या अंग वाला व्यक्ति या
जानवर, मल-मूत्र की जगह, उल्टी आदि इस रस के आलंबन
होते हैं।

वीभत्स रस के अवयव

1.स्थायी भाव –  जुगुप्सा
2.आलम्बन – मांस, रक्त, अस्थि, श्मशान, दुगन्ध
3.उद्दीपन – रक्त, मास आदि का सड़ना, कुत्ते-गिद्ध आदि
द्वारा शव नोंचना
4.अनुभाव – थूकना नाक-भौं सिकोड़ना, रोमांच
5.संचारी भाव – माह, जड़ता, व्याधि

वीभत्स रस के उदाहरण एवं स्पष्टीकरण

उदाहरण – 1

रिपु-आँतन की कुंडली करि जोगिनी चबात।
पीबहि में पागी मनो जुवति जलेबी खात ॥

स्पष्टीकरण – रस – वीभत्स। स्थायी भाव- जुगुप्सा आश्रय- दर्शक। आलम्बन – जोगिनी । उद्दीपन – आँतों को पीब में पाग- पाग कर खाना । अनुभाव-रोमांच, नाक-भौं सिकोड़ना, आँखें बन्द करना आदि (ऊपर सेआक्षेप करना होगा) । संचारी भाव-आवेग आदि (आक्षेप करना होगा)। यहाँ पर वीभत्स रस है।

See also  अधिगम के वक्र,पठार एवं स्थानांतरण / learning curves, plateau and transfer

उदाहरण – 2

सिर पै बैठ्यो काग, आँख दोउ खात निकारत ।
खँचत जीभहिं स्यार, अतिहि आनन्द उर धारत ॥
गीध जाँघ को खोदि-खोदि कै माँस उखारत ।
स्वान अंगुरिन काटि- काटि कै खान विचारत ॥
बहु चील नोचि ले जात तुच, मोद-मढ्यो सब को हियो ।
मनु ब्रह्मभोज जिजमान कोउ आजु भिखारिन्ह कहँ दियो ॥

स्पष्टीकरण – रस – वीभत्स । स्थायी भाव-जुगुप्सा । आश्रय- दर्शक। आलम्बन – श्मशान । उद्दीपन-काग का आँखों को निकालना, स्यार का जीभ को खींचना, गीध का जाँघ का माँस उखाड़ना आदि। अनुभाव – रोमांच, नाक-भौं सिकोड़ना आदि (ऊपर से आक्षेप करना होगा)। संचारी भाव-आवेग आदि (आक्षिप्त) । यहाँ पर वीभत्स रस है।

उदाहरण – 3

रक्त-मांस के सड़े पंक से उमड़ रही है।
महाघोर दुर्गन्ध, रुद्ध हो उठती श्वासा।
तैर रहे गल अस्थि- खण्डशत, रुण्ड-मुण्डहत
कुत्सित. कृमि-संकुल कर्दम में महानाश के ॥

स्पष्टीकरण – रस – वीभत्स । स्थायी भाव – जुगुप्सा । आश्रय-मजदूर आलम्बन – युद्ध-भूमि । उद्दीपन-सड़ाव, दुर्गन्ध आदि । अनुभाव-श्वास का रुद्ध होना। यहाँ पर वीभत्स रस है।

वीभत्स रस के अन्य उदाहरण

(1) गीध जांधि को खोदि-खोदि कै मांस उपारत।
स्वान आंगुरिन काटि-काटि के खात विदारत ॥

(2) आँखें निकाल उड़ जाते, क्षण भर उड़ कर आ जाते।
     शव जीभ खींचकर कौवे, चुभला-चभला कर खाते।
      भोजन में श्वान लगे मुरदे थे भू पर लेटे ।
      खा माँस चाट लेते थे, चटनी सम बहते बेटे ।

(3) जहँ-तहँ मज्जा माँस, रूचिर लखि परत बयारे ।
       जित-जित छिटके हाड़, सेत कहुँ-कहुँ रतनारे ।।

(4) सिर पर बैठो काग, आँख दोऊ खात निकारत ।
      खेचत जीनहि स्यार अतिहि आनंद उर धारत ।।


See also  प्रतीप अलंकार की परिभाषा एवं उदाहरण / प्रतीप अलंकार के उदाहरण व स्पष्टीकरण

                          ★★★ निवेदन ★★★

दोस्तों हमें कमेंट करके बताइए कि आपको यह टॉपिक वीभत्स रस की परिभाषा एवं उदाहरण / वीभत्स रस के उदाहरण व स्पष्टीकरण कैसा लगा। आप इसे अपने तैयारी कर रहे अपने मित्रों के साथ शेयर भी कीजिये ।

Tags – वीभत्स रस के छोटे उदाहरण,वीभत्स रस की परिभाषा उदाहरण सहित,वीभत्स रस की परिभाषा उदाहरण सहित लिखिए,वीभत्स रस के सरल उदाहरण,वीभत्स रस के 5 उदाहरण,वीभत्स रस की परिभाषा और उदाहरण,vibhatsa ras in hindi,वीभत्स रस के उदाहरण,वीभत्स रस के उदाहरण / वीभत्स रस के उदाहरण व स्पष्टीकरण




Leave a Comment